SP ने पत्नी को बोला था- मुझे कुछ हुआ, तो मथुरा में ही जलाना

” जाँबाज ”
शहीद एसपी की ये कहानी पढ़कर आपकी आंखों में आ जाएंगे आंसू –
मथुरा में हुए बवाल में शहीद हुए एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी सिर्फ पुलिस अफसर ही नहीं थे बल्कि एक बेहद नेक दिल इंसान भी थे। वह अपने ऑफिस आने वाले फरियादियों की व्यक्तिगत रूप से भी सहायता करते थे। मुकुल द्विवेदी सहारनपुर में करीब 2 साल तक सीओ सदर और सीओ टू के पद पर रहे।
अपने कार्यकाल में उन्होंने जिले लाखों लोगों के दिलों को जीत लिया था। कुछ ही दिन में लोग उन्हें इतना पसंद करने लगे थे। जिले के हर सामाजिक कार्यक्रम में मुकुल मुख्य रूप से मौजूद होते थे। फरियादियों और जनता से उनके प्यार से बोलने और सभी को संतुष्ट करने के ढंग ने उन्हें बेहद लोकप्रिय बना दिया था।

ma
सहारनपुर में मुकुल उस समय सीओ टू थे। उनके ऑफिस में एक फरयादी महिला मैले कुचैले से कपड़ों में आई। दोपहर के करीब ढाई बजे थे और मुकुल ऑफिस से निकलने वाले थे। सिपाहियों ने महिला को रोक दिया और अगले दिन आने को कहा। महिला ने कहा की वह काफी दूर से आई लेकिन सिपाहियों का दिल नहीं पसीजा और महिला से सख्ती से पेश आने लगे। बाहर आवाज सुनकर मुकुल बाहर आए तो उन्होंने देखा कि महिला के साथ तीन बच्चे थे। उस समय पूरा ऑफिस हैरान रह गया जब उन्होंने न सिर्फ महिला की फरयाद सुनी बल्कि खुद पैसे देकर महिला के छोटे बच्चे के लिए दूध मंगाकर पिलवाया और दोनों बड़े बच्चों को बिस्कुट मंगाकर दिए साथ ही महिला की मदद के लिए अपनी जेब से कुछ पैसे भी दिए।
मुकुल द्विवेदी सहारनपुर के सभी धर्मों के लोगों में लोकप्रिय हो गए थे। 2014 के दंगों के बाद उन्हें शासन से स्पेशल ड्यूटी पर सहारनपुर भेजा गया था। उस समय सहारनपुर में कर्फ्यू लगा हुआ था और उन हालात में एक ऐसे अफसर की जरूरत थी, जिसकी बात को लोग मानते हों और लिहाज करते हों। उस समय मुकुल ने पूरे शहर में घूमकर लोगों से मुलाकात की और शांति बनाए रखने की अपील की थी।
जय हिन्द !!
सहारनपुर में अपने कार्यकाल के दौरान मुकुल द्विवेदी हमेशा आगे रहते थे। कही भी छोटी से छोटी बात पर वह मोके पर जाते थे और लड़ाई झगड़ो में भी बिना किसी डर के लोगों के बीच जाकर उन्हें शांत कर देते थे।

पति की यह बात सुनकर पत्नी अर्चना दि्वेदी फफक कर रो पड़ी थीं। समझाया भी था कि ऐसी बात क्यों करते हैं। उस वक्त अर्चना को कहां पता था कि उनके पति जो कह रहे हैं, वही होने वाला है।

मुकुल दि्वेदी औरैया के रहने वाले थे। कल उनकी मां ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मार्मिक अपील कर डाली थी। अपने बेटे को खो चुकी इस मां ने कहा था कि मुझे पैसे नहीं चाहिए। सीएम मुझे मेरा बेटा लाकर दे दें। मां ने कल कहा था कि मैं सीएम को 20 लाख रुपए दूंगी, बस सीएम मुझे मेरा बेटा वापस कर दें।

Readers Comments (1)

  1. Serf aakh se he aasu nahe aaya ‘dil v ro pra……..

Leave a comment

Your email address will not be published.